‘पीएम मोदी सदन में नहीं आते हैं, ये कोई तरीका नहीं है लोकतंत्र को चलाने का’, राहुल गांधी ने कुछ यूं किया हमला।

राहुल गांधी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार को लोकतंत्र में चर्चा और असहमति के संदर्भ में ट्यूशन लेने की जरूरत है।

भूप एक्सप्रेस।
नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी सदन में नहीं आते हैं. लोकतंत्र को चलाने का ये कोई तरीका नहीं है। आगे राहुल गांधी ने कहा कि विपक्षी सांसदों के निलंबन को 14 दिन हो चुके हैं. जिन मुद्दों पर सदन में विपक्ष बहस करना चाहती है, उनपर हमें बहस नहीं करने दी जाती। जहां विपक्ष आवाज़ उठाने का प्रयास करता है, उन्हें निलंबित कर दिया जाता है. ये लोकतंत्र की हत्या है।

इससे पहले कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार को लोकतंत्र में चर्चा और असहमति के संदर्भ में ट्यूशन लेने की जरूरत है। उन्होंने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि लोकतंत्र में बहस व असहमति का महत्व- इस विषय पर मोदी सरकार को ट्यूशन की ज़रूरत है। कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष ने राज्यसभा के 12 निलंबित सदस्यों के समर्थन में निकाले जाने वाले मार्च में शामिल होने से पहले सरकार पर यह आरोप लगाया।

12 सदस्यों का निलंबन

गत मानसून सत्र में ‘अशोभनीय आचरण’ के लिए पिछले 29 नवंबर को आरंभ हुए संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन राज्यसभा में कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों के 12 सदस्यों को इस सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित करने का काम किया गया था। निलंबन के बाद से ये सांसद संसद की कार्यवाही के दौरान प्रतिदिन सुबह से शाम तक संसद परिसर में धरना दे रहे हैं।

सिद्धार्थनाथ सिंह ने किया राहुल गांधी पर वार

राहुल गांधी के ट्वीट पर उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि राहुल गांधी को अपने अंदर झांकने की जरूरत है। उसके बाद ही उन्हें पता चलेगा कि उनके अंदर क्या-क्या कमियां हैं। आपको क्या करना चाहिए, क्या ट्यूशन लेना चाहिए। ऐसा करने से कांग्रेस का भी भला होगा, आपका और आपके परिवार को भी भला होगा।