हमें अटल बिहारी वाजपेयी के राष्ट्र के प्रति समृद्ध सेवा से प्रेरणा लेकर देश व समाज के लिए एकजुट होकर काम करना चाहिए : के. डी. शर्मा

भूप एक्सप्रेस।

सनौली/पानीपत। डिपो होल्डर्स एसोसिएशन, सनौली ब्लॉक के प्रधान के. डी. शर्मा के आवास पर गांव कुराड़ में शनिवार को देश के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की 97वीं जयंती मनाई गई। इस दौरान उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किए और उन्हें याद किया और के. शर्मा ने लोगों को संबोधित करते हुए उनके जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 25 दिसंबर 1924 को कृष्ण बिहारी वाजपेयी के घर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म हुआ था। आगरा जिले के मूल निवासी होते हुए हालांकि उन्होंने अपनी शिक्षा ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से ली जिसे अब लक्ष्मीबाई कॉलेज के नाम से जाना जाता है।

शर्मा ने अटल बिहारी वाजपेयी के राजनीतिक कैरियर पर बोलते हुए कहा कि साल 1952 में उन्होंने पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा था। अटल जनसंघ के संस्थापकों में से एक थे और 1968 से 1973 तक उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रह चुके हैं। उन्होंने कहा कि उनका राजनीतिक कैरियर भी किसी रोलर कोस्टर से कम नहीं रहा है।

तीन बार प्रधानमन्त्री का पद संभालने वाले अटल सबसे पहले साल 1996 में पीएम के पद पर काबीज हुए। लेकिन पूर्ण बहुमत न होने के कारण उनकी सरकार मात्र 13 दिनों में ही गिर गई। इसके बाद उन्होंने साल 1998 में पीएम पद संभाला लेकिन एक बार फिर 13 दिन बाद ही उनकी सरकार गिर गई। इसके बाद उन्होंने साल 1999 में इस पद को एक बार फिर संभाला। उस वक्त 13 दलों की गठबंधन सरकार और वाजपेयी अपने कार्यकाल के पांच साल पूरा करने में सफल रहें।
इस अवसर पर प्रधान के. डी. शर्मा ने अटल जी को याद करते हुए अटल जी की मूर्ति पर पुष्प अर्पित करते हुए उनको कोटि-कोटि नमन किया और कहा कि हमें राष्ट्र के प्रति उनकी समृद्ध सेवा से प्रेरणा लेकर देश व समाज के लिए एकजुट होकर काम करना चाहिए।