पानीपत में बिजली निगम कार्यालय के कंस्ट्रक्शन SDO और JE रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार, ठेकेदार से बिल पास करने की एवज में मांगे 77 हजार, विजिलेंस ने दबोचे

भूप एक्सप्रेस।
पानीपत (नंदपाल) शुक्रवार को हरियाणा के पानीपत जिला में स्टेट विजिलेंस की जिला इकाई ने बिजली निगम के 2 कर्मचारियों को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। विजिलेंस ने गोहाना रोड बिजली निगम कार्यालय के कंस्ट्रक्शन SDO और JE को काबू किया है।

दोनों एक ठेकेदार के काम के बिल पास करने की एवज में 77 हजार रिश्वत ले रहे थे। दोनों के खिलाफ करनाल विजिलेंस थाने में भ्रष्टाचार की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। दोनों आरोपियों को शनिवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

सरकारी नियम एवं शर्तों पर लिया था ठेका

विजिलेंस इंस्पेक्टर सुमित कुमार ने बताया कि उन्हें एक ठेकेदार ने शिकायत दी थी। शिकायत में बताया था कि उसने काबड़ी रोड पर सब डिवीजन बनाने का काम लिया था। उसने सभी सरकारी नियमों एवं शर्तों को पूरा करते हुए यह ठेका लिया था। उसने साल 2021 में इस काम का ठेका लिया था। जिसका काम अभी चल रहा है।

बिल पास करवाने के लिए काट रहा था चक्कर

अभी तक हुए काम की पेमेंट करीब 19 लाख रुपए बकाया थी। इन बिलों को पास करवाने के लिए वह बिजली निगम के लगातार चक्कर लगा रहा था। संबंधित अधिकारियों से गुहार लगा रहा था। इसी बीच उससे SDO राकेश कुमार व JE राजेश कुमार ने रिश्वत मांगी। उनसे 77 हजार रुपए में सौदा तय हुआ। सौदा तय होने के बाद शिकायतकर्ता विजिलेंस के पास पहुंचा और शिकायत दी।

सरकारी गवाह के साथ तैयार की रेडिंग पार्टी

शिकायत के आधार पर विजिलेंस ने दोनों के खिलाफ केस दर्ज किया। अधिकारियों की जानकारी में मामला लाकर एक रेडिंग पार्टी तैयार की। रेड के लिए सरकारी गवाह भी साथ लिए। पूरी प्लानिंग के साथ शुक्रवार को बिजली निगम कार्यालय में पहुंचे। जैसे ही शिकायतकर्ता ने उन्हें रुपए दिए, टीम ने दोनों को काबू कर लिया। उनके हाथ धुलवाए गए तो पानी गुलाबी हो गया। रिश्वत में लिए 77 हजार की राशि भी बरामद कर ली गई।