बहादुरगढ़ में पूर्व मंत्री के बेटे ने की खुदकुशी, इनेलो प्रदेशाध्यक्ष सहित 6 पर एफ आई आर कर पुलिस ने की जांच शुरू

भूप एक्सप्रेस। 

बहादुरगढ़ (राकेस पंवार)। प्रदेश के पूर्व मंत्री मांगेराम के पुत्र एवं भाजपा नेता जगदीश नंबरदार ने संदिग्ध परिस्थितियों में आत्महत्या कर ली। उनकी मौत के लिए परिजनों ने इनेलो प्रदेशाध्यक्ष नफे सिंह राठी सहित 6 लोगों को जिम्मेदार ठहराया है। सिटी पुलिस ने आरोप के आधार पर धारा 306 व 34 IPC में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पीड़ित पक्ष ने मुख्यमंत्री से भी न्याय की गुहार लगाई है। वहीं, मामले की गंभीरता को देखते हुए SP झज्जर ने SIT गठित कर दी है।

जहरीला पदार्थ खाकर दी जान

मिली जानकारी अनुसार जगदीश नंबरदार ने बुधवार की दोपहर बाद अपने कार्यालय में जहरीला पदार्थ निगल लिया था। जिससे उनकी तबीयत बिगड़ गई थी और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उपचार के दौरान उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। सूचना मिलते ही परिजन और पुलिस भी मौके पर अस्पताल पहुंच गए थे।

मौत से कुछ दिन पहले ही जगदीश की ऑडियो क्लिप इंटरनेट मीडिया पर हुई थी वायरल 

मौत से कुछ दिन पहले ही जगदीश की ऑडियो क्लिप इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुई थी। ऑडियो में उन्होंने दबाव में आकर आत्महत्या करने का जिक्र किया था। अब जगदीश की मौत के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया है। विभिन्न राजनीतिक संगठनों के लोग अस्पताल में पहुंच गए। गुरुवार दोपहर तक यह सिलसिला जारी रहा। सूचना के बाद खुद SP वसीम अकरम बहादुरगढ़ पहुंचे और परिजनों को न्याय का आश्वासन दिया। जिसके बाद परिजन पोस्टमार्टम के लिए तैयार हुए।

बेटे गौरव राठी ने लगाए गंभीर आरोप 

पुलिस को दी शिकायत में मृतक के बेटे गौरव राठी ने कहा है कि उनके पिता जगदीश नंबरदार को पिछले कुछ वर्षों से पूर्व विधायक नफे सिंह राठी, उनका भांजा अजय दलाल उर्फ सोनू, को-ऑपरेटिव बैंक के पूर्व MD महेंद्र सिंह राठी हमारी पुश्तैनी जमीन व घर पर कब्जा करने की धमकी दे रहे थे। फरवरी 2019 में हमारी दुकान पर कब्जा किया गया था। इस संबंध में पिता ने पुलिस को शिकायत दी थी।

आई. ओ. ने पिस्तौल के बल पर कराया था समझौता

आरोप है कि आई. ओ. अश्विनी ने उन लोगों के साथ मिलकर कुछ दस्तावेजों पर पिस्तौल के बल पर पिता के हस्ताक्षर लेकर समझौता करा दिया। फिर जाली तरीके से कुछ दस्तावेज तैयार कर हमारी जमीन हड़पने में पटवारी श्याम और उसके सहयोगी राजू बंगाली ने भी साथ दिया। पिता को लगातार धमकी मिल रही थी। जिससे तंग आकर गत 26 दिसंबर 2022 को एक ऑडियो क्लिप डालकर मुख्यमंत्री और गृहमंत्री से भी न्याय की गुहार लगाई थी।

रिकॉर्डिंग में बयां किया था जगदीश ने दर्द

रिकार्डिंग में उन्होंने यह भी कहा था कि उन्हें आत्महत्या के लिए मजबूर किया जा रहा है। हमने जब रिकार्डिंग सुनी तो पिता को समझाया था। बुधवार को उन्होंने प्रताड़ना से तंग आकर जहर निगल लिया। बेटे ने मांग की कि आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार कर सख्त सजा दी जाए। उधर, वायरल ऑडियो और गौरव की शिकायत पर पुलिस ने सभी 6 आरोपियों पर केस दर्ज कर लिया है।

ए. एस. पी. बादली, अमित यशवर्धन की अगुवाई में गठित की SIT

झज्जर एस पी वसीम अकरम ने बताया कि परनाला रोड के रहने वाले जगदीश ने आत्महत्या की है। 26 दिसंबर को उनकी एक ऑडियो क्लिप वायरल हुई थी, जिसमें उन्होंने कुछ नाम लिए थे। इसको लेकर आरोपियों के खिलाफ सिटी थाने में 306, 34 के तहत केस दर्ज किया गया है और कई टीमें जांच कर रही है।

ए. एस. पी. बादली अमित यशवर्धन की अगुवाई में SIT भी गठित कर दी गई है। एफ आई आर में एक पुलिस कर्मी अश्विनी का भी नाम शामिल है। अगर उनका कोई रोल मिलता है, तो कार्रवाई होगी। बहुत ही जल्द मामले को सुलझाएंगे।