पाकिस्तान की बड़ी साजिश, हरियाणा बना विस्फोटक सामग्री का ट्रांजिट प्वाइंट, सरकार गंभीर

भूप एक्सप्रेस।

अंबाला, 19 मई  पाकीस्तान से पंजाब और फिर हरियाणा में एक के बाद एक विस्फोटक सामग्री मिलने की घटनाएं पाकीस्तान की बड़ी साजिश की ओर इशारा कर रही है। पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई की गोद में बैठकर भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल रिंदा का नाम भी इन्हीं घटनाओं में उछल चुका है। इन विस्फोटक सामग्री का ट्रांजिट प्वाइंट हरियाणा बनता जा रहा है, जिसको लेकर राज्य सरकार गंभीर है। यही कारण है कि प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज हरियाणा, पंजाब पुलिस के साथ-साथ केंद्रीय सुरक्षा एवं जांच एजेंसियों के साथ बैठक करने जा रहे हैं।

ऐसा पहली बार होगा जब इस बैठक का हिस्सा इंटेलीजेंस ब्यूरो (आइबी), नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआइए), क्रिमिनल इन्वेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (सीआइडी), राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी), रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के अधिकारी भी होंगे। यह बैठक सोमवार को अंबाला शहर के पुलिस आफिसर इंस्टीट्यूट अंबाला शहर में होगी।

गौरतलब है कि अंबाला दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग, कुरुक्षेत्र जिले के शाहाबाद और कैथल रोड पर अलग-अलग विस्फोटक सामग्री मिल चुकी है। बैठक में इस बात पर चर्चा होगी कि कैसे पंजाब से यह सामग्री हरियाणा तक पहुंच रही है। सुरक्षा एजेंसियों की जांच में सामने आ चुका है कि यह सारी खेप एक जैसी है। जो यह विस्फोटक सामग्री रखते हैं, फिर मोबाइल से वीडियो बनाते हैं और आगे हैंडलर को भेजते हैं। विस्फोटक को दूसरे स्थान पर ले जाने की जिम्मेदारी दी जाती है, लेकिन सुरक्षा एजेंसियों की सतर्कता के चलते यह पहले ही पकड़ी जाती हैं।

ऐसी घटनाएं पंजाब में भी दर्जन भर सामने आ चुकी हैं। ऐसे में बैठक में इन सभी को रोकने के लिए ब्लू प्रिंट तैयार किया जाएगा। हरियाणा और पंजाब में इन मामलों में जो आरोपित गिरफ्तार किए जा चुके हैं, उनकी क्राइम हिस्ट्री और संपर्क सूत्रों को एक दूसरे से साझा किया जाएगा ताकि किसी ठोस नतीजे पर पहुंचा जा सके।

हरियाणा में धमाकों का षडयंत्र पहले भी रचते रहे हैं आतंकी

17 मई 2023 को शहजादपुर क्षेत्र में तीन हैंड ग्रेनेड मिले। 5 मई 2022 को करनाल के बसताड़ा टोल प्लाजा पर पंजाब के रहने वाले चार आतंकियों को गिरफ्तार कर तीन आइईडी बरामद की गई थीं। इन आतंकियों के तार पाकिस्तान से जुड़े थे। फिलहाल इस मामले की जांच एनआइए कर रही है।

19 मार्च 2022 को अंबाला में तीन हैंड ग्रेनेड, आइईडी व विस्फोटक सामग्री मिली थी। 25 फरवरी 2022 को अंबाला के शहजादपुर के मंगलई गांव के पास बेगना नदी के जंगल में तोप के 259 गोले मिले थे। 13 मार्च 2021 को अंबाला के साहा खंड के सीमावर्ती गांव पंजैल और कुरुक्षेत्र के पाडलू गांव में नदी की तलहटी में रेत में दबे पांच बम मिले थे।

11 जून 2016 को अंबाला में जीआरपी और आरपीएफ ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए सेना के दो जवानों से 40 पैकेट सिलिकान ग्रेनाइट मिला था। यह विस्फोटक पदार्थ छावनी स्थित गांधी मार्केट से खरीदा गया था और सैन्यकर्मी इसे बठिंडा लेकर जा रहे थे। 12 अक्टूबर वर्ष 2011 को अंबाला छावनी रेलवे स्टेशन की कार पार्किंग में आरडीएक्स से भरी कार मिली थी। कार से डेटोनेटर और टाइमर भी मिले थे। 11 साल बाद भी सुरक्षा एजेसियां इस मामले को सुलझा नहीं पाई हैं।