ढीले रवैये वाले कर्मचारियों की अब खैर नहीं “आस” से हरियाणा सरकार करेगी निगरानी काम समय पर नहीं तो तय होगी जवाबदेही

भूप एक्सप्रेस।
चण्डीगढ़। जनता के काम के प्रति लापरवाह सरकारी कर्मचारियों व अफसरों के दिन अब लदने वाले हैं। हरियाणा सरकार सरकारी कामों की निगरानी के लिए नया सॉफ्टवेयर लेकर आ रही है। एक सितंबर से शुरू होने ऑटो अपील सॉफ्टवेयर (आस) के जरिए ऐसे कर्मचारियों की खुद ही पहचान हो जाएगी, जो लोगों के काम तय समय में नहीं निपटाते हैं। अगर किसी कर्मचारी की तीन बार इस तरह से लापरवाही सामने आती है तो उसे नौकरी से भी हाथ धोना पड़ सकता है। सरकार इसे आम जनता के लिए एक नई उम्मीद बता रही है। सेवा आयोग के अध्यक्ष टीसी गुप्ता ने बताया कि अगर किसी व्यक्ति का काम सेवा का अधिकार अधिनियम के दायरे में आता है और कोई कर्मचारी उसे समय पर पूरा नहीं करता है तो उसका आवेदन ऑटो अपील सॉफ्टवेयर के तहत अपीलेंट ऑथोरिटी में चला जाएगा। वहां भी काम नहीं होता तो आवेदन उससे बड़े अधिकारी के पास चला जाएगा। अगर इन दोनों स्तरों पर भी काम नहीं होता तो फिर आवेदन कमीशन के पास आ जाएगा। इसके बाद उस काम से संबंधित कर्मचारी व अधिकारी से इस बारे में जवाब मांगा जाएगा। अगर किसी कर्मचारी या अधिकारी की तीन बार ऐसी गड़बड़ियां मिलती हैं तो उस पर जुर्माना लगाया जाएगा। इसके बाद भी सरकारी कर्मचारी काम में सुधार नहीं करता है तो नौकरी भी जा सकती है। इस सॉफ्टवेयर के जरिए एक क्लर्क से लेकर विभागाध्यक्ष तक जवाब तलब किया जा सकेगा।