वृद्ध महिला को ऑटो मे बैठा सुनसान जगह पर ले जाकर सोने के जैवरात, नगदी व मोबाइल फोन लूटने वाले 4 आरोपित काबू

भूप एक्सप्रेस।
पानीपत(नंदपाल)। सीआईए-वन प्रभारी इंस्पेक्टर राजपाल सिंह ने बताया शुक्रवार को गश्त के दोरान सीआईए-वन पुलिस की टीम को गुप्त सूचना मिली की टीडीआई फ्लाई ओवर पुल के पास संद्विगध किस्म के चार युवक किसी अपराधिक वारदात को अंजाम देने की फिराक मे घूम रहे है । पुलिस टीम ने तुंरत मौके पर दंबिस देकर आरोपित चारों युवकों को काबू कर पुछताछ की तो युवकों ने अपनी पहचान कर्ण पुत्र जनेश, सुरज पुत्र जोगिन्द्र, मनोज पुत्र रामनिवास निवासी बतरा कालोनी व विनोद पुत्र महावीर निवासी दत्ता कालोनी पानीपत के रूप मे बताई । पुलिस टीम ने शक के आधार पर गहनता से पुछताछ की तो आरोपितों ने रक्षा बंधन की देर साय पानीपत बस स्टेंड के सामने करनाल जाने के लिए बस के इंतजार मे खड़ी एक वृद्ध महिला को विनोद की ऑटो मे बैठाकर रिफाईनरी के पास सुनसुना जगह पर महिला से पर्स, मोबाइल फोन व पहने हुए जैवरात लूटने की वारदात को अंजाम देने बारे स्वीकारा ।

गहनता से पुछताछ करने व लुटे गए जैवरात, नगदी व मोबाइल फोन बरामद करने के लिये चारों आरोपितों को माननीय न्यायालय मे पेश कर दो दिन के पुलिस रिमांड पर लेकर गहनता से पुछताछ की तो आरोपितों ने लूटे गए जैवरात को कच्चा कैप मे एक सुनार की दुकान पर साढे 9 हजार रूपये मे बेचने बारे खुलाशा हुआ । पुलिस टीम ने चारों आरोपितों की निशानदेही पर लूटे गए जैवरात खरीदने वाले तहसील केंप के प्रकाश नगर निवासी सुनार सतपाल पुत्र चुन्नीलाल को गिरफतार किया। सतपाल ने खरीदने सभी जैवरात को साथ ही गला दिया था ।

इंस्पेक्टर राजपाल ने बताया लूट की उक्त वारदात बारे 65 वर्षीय वृद्ध महिला दर्शना पत्नी जगदीश निवासी प्रेम नगर करनाल की शिकायत पर थाना शहर पानीपत मे मुकदमा दर्ज है । दर्शना ने थाना शहर पुलिस को दी शिकायत मे बताया था की वह 22 अगस्त को रक्षा बंधन का त्यौहार मनाकर कलंदर चौक पानीपत मायके से करनाल घर जाने के लिए पानीपत बस पर स्टेंड पर पहुंची तो बस नही मिलने पर वह बस स्टेंड के सामने जीटी रोड़ पर आकर खड़ी हो गई । वहा पर एक हरे रंग का ऑटो खड़ा था जिसमे 3 युवक बैठे थे । उसने करनाल जाने के लिए ऑटो चालक से पूछा तो चालक ने करनाल छोड़ने की बात कहते हुए ऑटो मे उसको बैठा लिया । चालक ऑटो को करनाल ना ले जाकर दूसरे रास्ते पर ले गया और एक सुनसान जगह पर रोक कर ऑटो चालक व बैठे तीनों व्यक्तियों ने उसके साथ मारपीट करते हुए पहनी हुई सोने की चेन, नाक की लोंग, सोने का छल्ला, सोने के टोपस, सोने कि अंगूठी, मोबाईल फोन व पर्स छिनकर उसको ऑटो से उतार जान से मारने की घमकी देते हुए फरार हो गए । बाद मे उसने एक बाइक सवार से लिफ्ट ली वही से पुलिस को फोन किया और पुलिस की मदद से वह परिजनों के पास पहुंची ।

इंस्पेक्टर राजपाल सिंह ने बताया लूटा गया मोबाइल फोन, 55 हजार रूपये व वारदात मे प्रयोग की गई ऑटो गिरफ्तार आरोपितों के कब्जे से बरामद कर रिमांड अवधि पूरी होने पर पांचो आरोपितों को माननीय न्यायालय मे पेश कर न्यायिक हिरासत जेल भेजा गया ।