पानीपत में साइबर की बढ़ती घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस ने चलाया विशेष जागरूकता अभियान

भूप एक्सप्रेस।
पानीपत (नंदपाल)। एस पी शशांक कुमार सावन के कुशल मार्ग दर्शन मे अभियान के तहत बुधवार को उप-पुलिस अधीक्षक संदीप ने दयाल सिंह पब्लिक स्कूल सैक्टर-13/17 मे विद्यार्थियों व स्कूल के स्टाफ को साइबर अपराध व इससे शर्तक रहने के लिए बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी देते हुए जागरुक किया ।

उन्होंने विद्यार्थियों व स्कूल स्टाफ को सम्बोधित करते हुए कहा कि हर क्षेत्र मे तकनीक बढ़ी तो साइबर अपराधी भी अपराध करने के नए-नए तरीके अपनाकर लोगो को ठगी का शिकार बना रहे है । जैसे सीवीवी/ओटीपी शेयरिंग फर्जीवाड़ा, यूपीआई फीसिंग फर्जीवाड़ा, रिक्वेस्ट मनी क्यूआर कोड/लिंक के माध्यम से फर्जीवाड़ा, फर्जी केश बैक आफर, लॉटरी के नाम पर फर्जीवाड़ा. ओएलएक्स के माध्यम से लोगो के साथ ठगी की वारदातो को अंजाम दे रहे है । साइबर ठगी का शिकार होने से बचने के लिए जागरुकता ही एकमात्र विशेष उपाय है ।

उन्होंने बताया कि साइबर अपराधी बैंक व भारतीय रिजर्व बैंक अधिकारी बन कर लोगों को फोन करते हैं और उनसे कहते हैं कि उनका डेबिट कार्ड ब्लाक हो गया है या उनका केवाइसी अपडेट नहीं है या उनका आधार बैंक खाते से जुड़ा नहीं है। फिर आधार को बैंक खाते से जोड़ने, केवाईसी अपडेट करवाने या डेबिट कार्ड शुरू करने के बहाने उनसे उनके खाते से जुड़ी गोपनीय जानकारी लेकर खातों से राशि निकाल लेते हैं। जबकि किसी भी बैंक द्वारा कभी भी डेबिट कार्ड नंबर, सीवीवी नंबर, ओटीपी की जानकारी नहीं ली जाती। व्हाट्सएप मैसेज, फोन या अन्य इंटरनेट मीडिया के माध्यम से कभी भी किसी को डेबिट कार्ड नंबर, सीवीवी नंबर, ओटीपी इत्यादि गोपनीय जानकारी सांझा न करें। ई-मेल आइडी के पासवर्ड को भी किसी के साथ सांझा न करें, क्योंकि इसका उपयोग कर साइबर अपराधी इंटरनेट बैंकिग को एक्टिवेट कर खाते में उपलब्ध राशि को हस्तांतरित कर सकते हैं । लोगों को जागरूक रहना होगा।

साइबर ठगी से बचने के लिए निम्न सावधानियां बरते :

– कोई भी व्यक्ति मोबाइल पर आए मैसेज की जानकारी मांगें तो उसको न दें
– किसी भी व्यक्ति को अपना एटीएम नंबर या पासवर्ड न बताएं
– बैंक खाते या आधार कार्ड से संबंधित जानकारी किसी को न दें
– कोई व्यक्ति परिचित का नाम लेकर बैंक खाते में राशि भेजने की बात करे तो उसकी बातों में न आए ।
– अनजान व्यक्ति द्वारा वाट्सएप या किसी अन्य एप पर भेजे गए लिंक पर क्लिक न करें ।
-किसी भी तरह की बैंक खाते से संबंधीत गोपनीय जानकारी किसी से सांझा न करे ।
-अपने मोबाइल व कंप्यूटर के सॉफटवेयर को अपडेट रखे ।

अगर आपके साथ किसी भी प्रकार का साईबर अपराध हो जाता है तो इसकी शिकायत नेशनल साईबर क्राईम पोर्टल https//www.cybercrime.gov.in पर दर्ज करवायें या नजदीक पुलिस चौकी या पुलिस स्टेशन पर अपनी शिकायत दर्ज करवायें ।

स्कूल की प्रिंसिपल विनीता कुमार तोमर व वॉइस प्रिंसिपल नीलम वत्स ने उक्त जानकारी सांझा करने पर पुलिस अधीक्षक शशांक कुमार सावन सहित जिला पुलिस को आभार व्यक्त किया। इस दौरान थाना सैक्टर -13/17 प्रभारी सब इंस्पेक्टर रामनिवास भी मौजूद रहे ।